Tuesday, 22 January 2013

कि प्यार के बिना भी उम्र काट लेंगे आप किन्तु


कि प्यार के बिना भी उम्र काट लेंगे आप किन्तु
कहीं तो अधूरी जिन्दगानी रह जायेगी
यानी रह जायेगी न मन में तरंग
नाहीं देह पर नेह की निशानी रह जायेगी
रह जायेगी तो वस नाम की नहीं तो ​फिर
और किस काम की जवानी रह जायेगी
रंग जो ना ढंग से उमंग के चढेंगे तो
कबीर सी चन्दरिया पुरानी रह जायेगी

— कवि देवल आशीष